पर्यटन केवल उद्योग ही नहीं है,यह इतिहास को भी जीवित रखता हैधरोहर से परिचित कराता हैभारत जब तक इतिहास को जीता था भारत था, 'इंडिया' बन, इतिहास भूलने व बिगाड़ने की पतन की राह चलने लगा है परिणाम यूनान मिस्त्र रोम से भी घातक होगा कुछ लोग इतिहास पड़ते, पढ़ाते हैं कुछ बिगाडते हैंहम वो(भारत माता के लाल)हैं, जो अनुकरणीय इतिहास घडते/ रचते हैतिलक.(निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करें,संपर्कसूत्र-तिलक संपादक युगदर्पण 09911111611, 09999777358Rendered Image

बिकाऊ मीडिया -व हमारा भविष्य

: : : क्या आप मानते हैं कि अपराध का महिमामंडन करते अश्लील, नकारात्मक 40 पृष्ठ के रद्दी समाचार; जिन्हे शीर्षक देख रद्दी में डाला जाता है। हमारी सोच, पठनीयता, चरित्र, चिंतन सहित भविष्य को नकारात्मकता देते हैं। फिर उसे केवल इसलिए लिया जाये, कि 40 पृष्ठ की रद्दी से क्रय मूल्य निकल आयेगा ? कभी इसका विचार किया है कि यह सब इस देश या हमारा अपना भविष्य रद्दी करता है? इसका एक ही विकल्प -सार्थक, सटीक, सुघड़, सुस्पष्ट व सकारात्मक राष्ट्रवादी मीडिया, YDMS, आइयें, इस के लिये संकल्प लें: शर्मनिरपेक्ष मैकालेवादी बिकाऊ मीडिया द्वारा समाज को भटकने से रोकें; जागते रहो, जगाते रहो।।: : नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक विकल्प का सार्थक संकल्प - (विविध विषयों के 28 ब्लाग, 5 चेनल व अन्य सूत्र) की एक वैश्विक पहचान है। आप चाहें तो आप भी बन सकते हैं, इसके समर्थक, योगदानकर्ता, प्रचारक,Be a member -Supporter, contributor, promotional Team, युगदर्पण मीडिया समूह संपादक - तिलक.धन्यवाद YDMS. 9911111611: :

Sunday, May 8, 2016

प्रभु रेल: मात्र 830 रुपया प्रतिदिन में ‘भारत दर्शन’ करें

प्रभु रेल: मात्र 830 रुपया प्रतिदिन में ‘भारत दर्शन’ करें 
रेल मंत्रालय के इस भारत दर्शन संकुल (पैकेज) में शामिल है; रेल यात्रा, सड़क-परिवहन के साथ-साथ ठहरने और खान-पान व्यवस्था भी। 
न दि, 8 मई (तिलक)  भारतीय रेल ने तीर्थ यात्रियों को बड़ी सुविधा देते हुए, भारत दर्शन पर्यटक गाड़ी आरम्भ की है। इस गाड़ी से तीर्थ दर्शनार्थी शिरडी, तिरुपति, जगन्नाथ पुरी, बैद्यनाथ धाम सहित अन्य ज्योतिर्लिगों का भी दर्शन करेंगे। ये गाड़ी प्रथम बार 8 मई को पूर्व दर्शन हेतु चंडीगढ़ से प्रस्थान होगी, बताया जा रहा है कि इसमें 10 डिब्बे होगें। ये गाड़ी चंडीगढ़ से चलकर दिल्ली पहुंचेगी, फिर अयोध्या, वाराणसी, गया के रास्ते बैद्यनाथ धाम, जगन्नाथ पुरी होते हुए गंगा सागर पहुंचेगी। 
इस गाड़ी ने अपनी 15 दिवसीय पहली यात्रा के लिए सारे यात्रियों का पंजीकरण हो चुका है, रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ये गाड़ी विशेषकर तीर्थ यात्रियों को ध्यान में रखते चलाई गई है, इसमें तीर्थ यात्रियों के बजट का भी विशेष ध्यान रखा गया है, 830 रुपये प्रति दिन में इस गाड़ी से यात्रा के अतिरिक्त यात्रियों को परिवहन, भोजन सहित जहाँ आवश्यक हुआ ठहरने की व्यवस्था होगी, ये गाड़ी देश के महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों की यात्रा करवाएंगी। 
ज्ञात हो कि रेल मंत्रालय के इस भारत दर्शन संकुल के तहत गाड़ी 7 ज्योतिर्लिगों की यात्रा करवाएगी, अब अगली गाड़ी 23 मई को चंडीगढ़ से प्रस्थान होगी। ये गाड़ी चंडीगढ़ से दिल्ली पहुंचेगी, फिर उज्जैन (महाकालेश्वर और ओंकारेश्वर), द्वारका, सोमनाथ औरागाबाद और नासिक की यात्रा कराएगी। 
इतना ही नहीं, ये गाड़ी दक्षिण सहित कई महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों की यात्रा करवाएगी। दक्षिण के धार्मिक स्थलों के लिए गाड़ी चंड़ीगढ़ से 27 जून को चलेगी, ये गाड़ी दिल्ली होते हुए शिरडी, तिरुपति, कांचीपुरम, रामेश्वरम, मदुरै, कन्याकुमारी, मैसूर और बंगलोर की यात्रा कराएगी। बताया जा रहा है कि इस गाड़ी में प्रशिक्षित पर्यटन प्रबंधक भी अपनी सेवाएं देंगे, ताकि पर्यटकों को कोई असुविधा न हो। गाड़ी में अभी 10 डिब्बे ही है। 
भारत जब तक इतिहास को, जीता था भारत था | 'इंडिया' बन, इतिहास भूलने व बिगाड़ने की; पतन की राह चलने लगा | आओ, मिलकर इसे बनायें; - तिलक
http://dharmsanskrutidarpan.blogspot.in/2016/04/blog-post.html